एक्सपीडिशनरी मार्केटिंग क्या है और इसके सिद्धांत इससे जुड़े सभी जानकारी हिंदी में

0

Business में Job के मुकाबले काफी ज्यादा पावर हैं, इस बात से मुकरा नहीं जा सकता। लेकिन बिजनेस शुरू करते वक्त कॉम्पटीशन का डर हमेशा दिमाग में बना रहता हैं। Business की इस भीड़-भाड़ वाली दुनिया में टिक पाना काफी मुश्किल हैं।

लेकिन कुछ ऐसी मार्केटिंग पद्धति भी हैं जो ढेरो सफल कॉम्पीटिटिव्स के बीच में भी आपको Grow करने में मदद करती हैं, जैसे की Expeditionary Marketing! आज के इस लेख में हम Expeditionary Marketing Kya Hai और Expeditionary Marketing Ke Fayde के बारे में बात करेंगे।

Expeditionary Marketing

Marketing हर तरह के व्यवसाय के लिए जरूरी है चाहे वह छोटा हो या फिर बड़ा! कुछ लोग बिजनेस में काफी पहले से होते है और वह अच्छा पैसा कम रहे होते है तो ऐसे में उनके पास Marketing पर खर्च करने को भी अच्छा खासा पैसा रहता हैं।

कुछ लोग एक बड़े इन्वेस्टमेंट के साथ बिजनेस शुरू करते है तो उनके पास भी Marketing पर खर्च करने की काफी बड़ा अमाउंट होता हैं। लेकिन कुछ लोग ऐसे होते है जो नई शुरुआत करते है और उनका बजट कम रहता हैं, ऐसे लोगो के लिए Expeditionary Marketing हैं।

एक्सपीडिशनरी मार्केटिंग क्या हैं ? Expeditionary Marketing Kya Hai ?

Expeditionary Marketing नई कम्पनियो की Growth में ली जाने वाली मार्केटिंग स्ट्रेटेजीस को ही कहा जाता हैं। Expeditionary Marketing में उन मार्केटिंग स्ट्रेटेजीस को महत्व दिया जाता हैं जो कम लागत में अधिक Profit देती हैं।

यह नए Startups के लिए सबसे बेहतर मानी जाती हैं। Expeditionary Marketing को Entrepreneurian Marketing से सम्बंधित माना जाता हैं। एक्सपीडिशनरी मार्केटिंग में पूरी फर्म को बाजार में जगह दिलाने की कोशिश की जाती हैं।

इस तरह की मार्केटिंग तकनीकों में ग्राहकों और कम्पनी के बीच मजबूत सम्बन्ध बनाने पर बल दिया जाता हैं जिससे की Trust बिल्ड हो सके और कम्पनी को अधिक Profit प्राप्त हो सके। Expeditionary Marketing में क्योंकि कम्पनिया छोटे स्तर पर होती है अतः ध्यान प्रत्येक ग्राहक की नज़रो में कम्पनी की वेल्यु बनाने पर ध्यान दिया जाता हैं। यानी की विभिन्न माध्यमो से ग्राहकों को कम्पनी की तरफ से सेटिस्फिकेशन देने की पूरी कोशिश की जाती है।

लेकिन Expeditionary Marketing केवल Startups तक ही सीमित नहीं है क्योंकि दुनिया की कई बड़ी और बाजार में अपना पैर जमा चुकी कम्पनिया भी Expeditionary Marketing का उपयोग करती हैं। इसमे कम्पनी के Physical, Financial और Intellectual Resources को Analyze किया जाता है और उन Resources के अनुसार ही Market ढूंढा जाता हैं।

Expeditionary Marketing में Products और Services की Sells के लिए नए Markets ढूंढे जाते हैं। यही कारण हैं की Expeditionary Marketing में Risk भी काफी होती है। जैसे की अगर किसी Computer Moniter कम्पनी अपनी Growth के लिए बाजार के बाहर भी Products बेचना चाहती है तो वह पहले अपने Resources को एनालाइज करेगी।

इसके बाद कम्पनी को यह अंदाजा होगा की उनके पास अपने Products बेचने के लिए Engineers, Technicians, Factories और Sales Staff हैं जिनके लिए वह Digital Billboards चला सकते हैं।

यह कम्पनी के लिये एक नई Opportunity होगी लेकिन इसमे Risk भी काफी ज्यादा है क्योंकि कम्पनी ने ऐसा पनपे कभी नही किया। Expeditionary Marketing में कम्पनी यह विश्वास करती है की वह अपनी स्ट्रेटेजी से अच्छा प्रॉफिट प्राप्त कर लेगी।

Expeditionary Marketing कम्पनियो को उनके कॉम्पटीटर से पहले ही नए Markets में शिफ्ट करने में मदद करती हैं। नई Opportunities को ढूंढना, प्रोडक्ट्स डिज़ाइन करना और उन्हें Customers को इंट्रोड्यूस करवाने की Process को Expeditionary Marketing में ही शामिल किया गया हैं।

Apple को अब तक के सबसे बड़े Expeditionary Marketers के रूप में देखा जाता हैं। साल 2000 से पहले Apple एक कंप्यूटर कम्पनी थी लेकिन अगले 10 सालो में उन्होंने आपमे नए 2 Gadgets लॉन्च किये और आज Apple उनसे अधिक Profit कमा रही हैं। Apple ने उस समय रिस्क लिया और अपने पहले iPod के लॉन्च के बाद से ही Apple की Sales आसमान को छू गयी।

एक्सपीडिशनरी मार्केटिंग के सिद्धांत – Principles of Expeditionary Marketing in Hindi

इस समय काफी सारे मार्केटिंग पद्धतियां Exist करती है और उन सभी के विभिन्न सिद्धांत हैं, जिन्हें फॉलो करके ही उन पद्धतियों से प्रॉफिट निकाला जा सकता हैं। Expeditionary Marketing पद्धति के निम्न सिद्धांत हैं:

  • Pro Activeness : अगर आप नई Opportunities  का फायदा उठाना चाहते हो तो आपको अपने बिजनेस के साथ काफी Active भी रहना होगा। क्योंकि अगर आप Active नही रहोगे तो भारी नुकसान हो सकता हैं।
  • Risk : किसी भी तरह की मार्केटिंग स्ट्रेटेजी में Growth जोखिम भरा खेल हैं। क्योंकि जब आप पहले से किसी बिजनेस में टिके हुए हो और फिर उससे बाहर जाकर किसी अन्य चीज में पैसे इन्वेस्ट करते हो तो रिस्क तो लेना ही होगा।
  • Innovative : Expeditionary Marketing की सबसे खास बात यही हैं की इसमे कम्पनी को इनोवेटिव होना पड़ता हैं। हमेशा कुछ नया Try करने की सोचो चाहे वह Product के बारे में हो या फिर Marketing और Market के बारे में हो।
  • Focus on Opportunity : जब भी कोई कंपनी एक्सपीडिशनरी मार्केटिंग में होती है तो उसका फोकस हमेशा नए मौकों पर रहना चाहिए। एक्सपीडिशनरी मार्केटिंग में अपने कॉम्पटीटर से पहले मौके की तलाश करना और उसका फायदा उठाने का सिद्धांत हैं।
  • Value : एक्सपीडिशनरी मार्केटिंग में ब्रांड की वैल्यू बनाने पर भी काफी ध्यान दिया जाता हैं। उदाहरण के तौर पर स्मार्टफोन कंपनी बनकर इसने अपनी एक ब्रांड वैल्यू बनाई है जिसके चलते पिछले कुछ सालो में ही कम्पनी को काफी Profit हुआ हैं।
  • Customer Intensity : किसी भी तरह के व्यवसाय में ग्राहकों की इंटेंसिटी का काफी महत्व होता है। एक्सपीडिशनरी मार्केटिंग में प्रोडक्ट और ग्राहकों के बीच गहरा लिंक बनाने का सिद्धांत फॉलो किया जाता है।

So Guys, उम्मीद है कि आपको एक्सपीडिशनरी मार्केटिंग पर आधारित हमारे यहां लेख पसंद आया होगा। इस लेख में हमने Expeditionary Marketing Kya Hai और एक्सपीडिशनरी मार्केटिंग के सिद्धांत जैसे विषयों पर बात की। अगर आपके दिमाग में अब भी एक्सपीडिशनरी मार्केटिंग से जुड़ा हुआ कोई सवाल घूम रहा है तो हमे कमेंट करके जरूर बताएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.